दोस्तों आज आपको बताने वाले है आपके चहिते गेम के बारे में जी हा आपने टाइटल तो पढ़ लिया होगा दोस्तों इंडिया में बैन हटा दिया गया है जी हा दोस्तों आपका पसंदीदा गेम पब्जी फिर वापस आ रहा है। हम आपको बताएंगे की पब्जी वापस क्यों आ रहा है इसलिए पूरा पढ़े।

india me ban hata

पब्जी क्यों बैन हुआ था ?

दोस्तों आप सभी तो जानते ही होंगे की इंडियन गवर्नमेंट ने 2 सितम्बर को पब्जी बैन कर दिया था यूजर्स का डाटा थर्ड पार्टी को शेयर न हो जाए इसके चलते सरकार द्वारा यह निर्णय लिया गया था क्योंकि पब्जी खेलने वाले भारतीय यूजर्स बहुत ज्यादा है और कम्पनी किसी थर्ड पार्टी को डाटा दे सकती है इसके चलते बैन कर दिया था।

india me ban hata

इंडिया में पब्जी क्यों वापस आ रहा है ?

दोस्तों पब्जी के बैन होते ही सभी के अलग-अलग रिएक्शन आने लगे थे क्यों बैन हो गया वगेरा वगेरा, अब हम क्या करेंगे तो दोस्तों जानते है की पब्जी पर इंडिया में बैन हटा कैसे –

दोस्तों बात करे पब्जी की तो सबसे पहली बात यह सामने आती है की पब्जी चाइनीस एप है या नहीं तो दोस्तों आपको हम बता दे की पब्जी कॉर्पोरेशन है वह एक साऊथ कोरियन कंपनी है और गेम भी इसी ने डवलप किया है तो दोस्तों जो आप पब्जी पीसी खेलते हो वह साऊथ कोरियन कंपनी द्वारा डवलप किया है और दोस्तों जो आप मोबाईल में पब्जी खेलते हो इसके डेवलोपमेन्ट में टेनसेंट के साथ कोलब्रटे किया था और जैसा आप जानते ही हो हल में पब्जी बैन कर दिया है।

दोस्तों आपके बता दे की जो पब्जी कॉर्पोरेशन है उन्होंने ये फैसला लिया है की जो इंडिया में पब्जी मोबाईल की फ़्रेंचाइज़ है ये टेनसेंट को ऑथराइज नहीं करेगा तो दोस्तों अभी पब्जी कॉर्पोरेशन की तरफ से बात चल रही है टेनसेंट को पूरी तरह से निकालने की समझो निकाल ही दिया है। अब पब्जी कॉर्पोरेशन फिर इंडियन गवर्नमेंट से बात करेगी पब्जी के बारे में तो देखते है क्या होता है।

क्या है अक्षय कुमार का FAU-G GAME ?

तो दोस्तों बात यह है की जो पब्जी मोबाईल अभी चाइना से लिंक है टेनसेंट गेम के थ्रू वो हैट जाएगा और इंडिया में फिर आता है वापस तो यह एक साऊथ कोरियन गेम हो जाएगा तो आपको बता दे की पब्जी कॉर्पोरेशन बात कर रही है इंडियन गवर्नमेंट से यह जल्द इंडिया में आ सकता है क्या आप भी कर रहे हो पब्जी की वापसी का इंतजार अभी कमेंट करके बताए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *